उत्तराखंड

थाना प्रेमनगर पुलिस द्वारा नौकरी दिलाने के नाम पर ऑनलाइन लाखों की ठगी करने वाला अंतर्राज्यीय शातिर अभियुक्त गिरफ्तार

देहरादून।15 अक्तूबर 2020 को वादी अनिल सिंह चौहान पुत्र धर्म सिंह चौहान निवासी त्यूणी हाल ग्राम श्यामपुर थाना प्रेमनगर देहरादून ने थाना प्रेमनगर पर एक लिखित तहरीर दी कि राजेश शर्मा पुत्र प्रकाश चंद निवासी ग्राम मुड़िया थाना नगर जिला भरतपुर राजस्थान के द्वारा एयर इंडिया में नौकरी लगवाने का झांसा देकर वादी से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के तहत 50,000 रुपए ले लिए है ,दाखिला तहरीर के आधार पर थाना प्रेमनगर पर मुकदमा अपराध संख्या 164/ 2020 धारा 420,406 भादवी बनाम राजेश शर्मा पंजीकृत करते हुए विवेचना प्रारंभ की गई, मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस उपमहानिरीक्षक/ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून के आदेशानुसार पुलिस अधीक्षक नगर के निर्देशानुसार क्षेत्राधिकारी मसूरी के पर्यवेक्षण में थानाध्यक्ष द्वारा अभियुक्त की गिरफ्तारी एवं माल बरामदगी हेतु आवश्यक दिशा निर्देश एवं महत्वपूर्ण जानकारी देते हुए पुलिस टीम का गठन किया गया।

गठित पुलिस टीम द्वारा आज दिनांक 16 अक्तूबर 2020 को ठोस पतारसी सुरागरसी करते हुए चेकिंग के दौरान दरू चौक से अभियुक्त राजेश शर्मा के कब्जे से धनराशि 1,49,500 रुपए, एसबीआई एटीएम कार्ड, एयर इंडिया की फर्जी आईडी, एक मोबाइल, 02 सिम कार्ड, एक बुलेट मोटरसाइकिल बरामद करते हुए गिरफ्तार किया गया है अभियुक्त को माननीय न्यायालय पेश किया जाएगा।

पूछताछ के दौरान अभियुक्त ने बताया कि वह राजस्थान का रहने वाला है तथा बीबीए करने के पश्चात नौकरी ना मिलने एवं बेरोजगार होने के कारण अभियुक्त के दिमाग में शॉर्टकट तरीके से पैसा कमाने की बात आई, जिसके चलते अभियुक्त शातिराना अंदाज से राजस्थान से देहरादून आया और नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं को सरकारी नौकरी एवं एयर इंडिया आदि में नौकरी लगवाने एवं खुद को एयर इंडिया का एच आर बताकर तथा खुद की जान पहचान एयर इंडिया के एमडी टीकम सिंह नाम के व्यक्ति से होना बताकर बेरोजगार युवाओं को विश्वास में लेकर नौकरी लगवाने का झांसा देकर टीकम सिंह के खाते में ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के तहत लाखों रुपए की धनराशि हड़प लेता था, अभियुक्त ने बताया कि उसके द्वारा देहरादून ,टिहरी गढ़वाल तथा उत्तरकाशी एवं अलग-अलग जगहों से नौकरी की तलाश कर रहे कई युवाओं से ऑनलाइन धोखाधड़ी की गई है,तथा धोखाधड़ी से पैसे लेने के बाद अभियुक्त अपने सिम को बदल देता था तथा की गई चैटिंग को तुरंत डिलीट कर देता था। ताकि अपनी लोकेशन छिपा सके और पुलिस से बचा जा सके।

अभियुक्त द्वारा बताया गया कि लोगों से ठगी गई धनराशि में से उसके द्वारा घटना में प्रयुक्त की जा रही बुलेट मोटरसाइकिल को नगद खरीदा गया है। अभियुक्त यदि गिरफ्तार ना होता तो राज्य में कई घटनाओं को अंजाम देने में सफल रहता।

पुलिस द्वारा बरामद माल में ठगी गई धनराशि 1,49,500 रुपए नगद,एसबीआई एटीएम कार्ड,एयर इंडिया जयपुर की आईडी,एक बुलेट मोटरसाइकिल-ठगी के पैसों से खरीदी गई एवं घटना में प्रयुक्त है।गठित पुलिस टीम में एसआई संदीप कुमार, थाना प्रेमनगर,कांस्टेबल 460 प्रदीप कुमार,कांस्टेबल 1736 सुनील प्रसाद रहे।

Print Friendly, PDF & Email

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close